अशोक लेलैंड के मुनाफे में 58 फीसदी की गिरावट, राजस्व में 22 प्रतिशत की वृद्धि

News Date 24 May 2022

अशोक लेलैंड के मुनाफे में 58 फीसदी की गिरावट, राजस्व में 22 प्रतिशत की वृद्धि

अशोक लेलैंड : वित्तवर्ष 2022 की चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ में 158 करोड़ रुपए की कमी

देश की सभी वाणिज्यिक वाहन निर्माता कंपनियां बढ़ती लागत के बावजूद उचित कीमत पर वाणिज्यिक वाहन उपलब्ध करा रही है। इससे कई कंपनियों के मुनाफे में कमी दर्ज की गई है। हिंदुजा ग्रुप की प्रमुख वाणिज्यिक वाहन निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड के समेकित शुद्ध लाभ में 58 प्रतिशत की गिरावट के साथ 157.85 करोड़ रुपए दर्ज किया है। यह कमी वित्तवर्ष 22 की चौथी तिमाही में सामने आई है। अधिक खर्चों की वजह से शुद्ध लाभ में यह कमी दर्ज की गई है। जबकि कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष 21 की चौथी तिमाही में समेकित शुद्ध लाभ 377.13 करोड़ रुपए कमाया था। अशोक लेलैंड की ओर से यह जानकारी एक नियमित फाइलिंग के दौरान दी गई है। 

अशोक लेलैंड ने चौथी तिमाही में 9927 करोड़ का राजस्व प्राप्त किया

हालांकि इस वाणिज्यिक वाहन निर्माता कंपनी ने वित्तवर्ष 22 की चौथी तिमाही के दौरान 9926.97 करोड़ रुपए का राजस्व परिचालन से प्राप्त किया है। जबकि पिछले वित्तवर्ष 21 की समान तिमाही में कंपनी का कुल राजस्व 8142.11 करोड़ रुपए था। इस प्रकार कंपनी के राजस्व में 1784.86 करोड़ रुपए की वृद्धि दर्ज की गई है। 

कंपनी के खर्चे 9429.55 करोड़ रुपए पर पहुंचे

वित्तवर्ष 22 की चौथी तिमाही के दौरान अशोक लेलैंड के राजस्व में वृद्धि के साथ-साथ खर्चों में बढ़ोत्तरी हुई है। इससे कंपनी के शुद्ध लाभ में कमी आई है। वित्तवर्ष 22 की चौथी तिमाही के दौरान कंपनी का कुल खर्चे 9429.55 करोड़ रुपए रहे जो वित्तवर्ष 21 की समान तिमाही में 7831.21 करोड़ रुपए थे। कंपनी ने सामग्री और सेवाओं पर 6580.81 करोड़ रुपए खर्च किए हैं जो पहले 5481.04 करोड़ रुपए थे। इसके अलावा कंपनी ने चौथी तिमाही में असाधारण मद के विभिन्न स्तरों पर 266.71 करोड़ रुपये खर्च किए हैं, जिसमें सहायक कंपनियों की गुडविल और शुद्ध संपत्ति के मूल्य में हानि, निवेश के मूल्यांकन की हानि और स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना शामिल है।

कर पश्चात लाभ 901 करोड़ रुपए कमाया

कई तरह के उतार-चढ़ाव के बावजूद अशोक लेलैंड के कर पश्चात लाभ में वृद्धि दर्ज की गई है। स्टैंड अलोन आधार पर अशोक लेलैंड ने कहा कि चौथी तिमाही में उसका कर पश्चात लाभ 901 करोड़ रुपये रहा, जबकि एक साल पहले यह 241 करोड़ रुपये था। वहीं चौथी तिमाही में स्टैंडअलोन राजस्व 8,744 करोड़ रुपये रहा, जो पहले 7,000 करोड़ रुपये था।

उद्योगों की स्वस्थ मांग से सीवी उद्योग में होगा सुधार

अशोक लेलैंड को भविष्य में कमर्शियल व्हीकल उद्योग में बेहतर सुधार की उम्मीद है। अशोक लेलैंड के कार्यकारी अध्यक्ष धीरज हिंदुजा ने कहा, "हमने वित्त वर्ष 22 की चौथी तिमाही में सुधार देखा है और समग्र प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है। व्यापक आर्थिक माहौल में सुधार और अंतिम उपयोगकर्ता उद्योगों की स्वस्थ मांग के कारण सीवी उद्योग में सुधार हो रहा है। उन्होंने आगे कहा कि एमएचसीवी (मध्यम और भारी वाणिज्यिक वाहन) सेगमेंट निर्माण और खनन, कृषि जैसे प्रमुख क्षेत्रों में वृद्धि, बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए पूंजी परिव्यय में वृद्धि और प्रतिस्थापन की मांग में कमी के कारण सुधार की उम्मीद कर रहा है। 

ई-कॉमर्स सेगमेंट से एलसीवी की मांग में होगी वृद्धि

देश में ई-कॉमर्स के लिए हल्के वाणिज्यिक वाहनों की मांग में लगातार वृद्धि हो रही है। अशोक लेलैंड कंपनी को उम्मीद है कि एलसीवी मॉडल की मांग बेहतर बनी रहेगी। इस संबंध में धीरज हिंदुजा का कहना है कि हल्के वाणिज्यिक वाहनों की मात्रा, विशेष रूप से ई-कॉमर्स सेगमेंट से अंतिम मील कनेक्टिविटी की बढ़ती मांग के कारण आगे बढऩे की उम्मीद है। उन्होंने कहा, "हम कमोडिटी की कीमतों और सेमी-कंडक्टरों की आपूर्ति पर स्थिति का उत्सुकता से पालन कर रहे हैं और आशा करते हैं कि दोनों में आसानी होगी।"

क्या आप नया ट्रक खरीदना, डीज़ल ट्रक, पेट्रोल ट्रक, इलेक्ट्रिक कमर्शियल वाहन या पुराना ट्रक बेचना चाहते हैं, किफायती मालाभाड़ा से फायदा उठाना चाहते हैं, ट्रक लोन, फाइनेंस, इंश्योरेंस, अपना ट्रक चुनें व अन्य सुविधाएं बस एक क्लिक पर चाहते हैं तो देश के सबसे तेजी से आगे बढ़ते डिजिटल प्लेटफार्म ट्रक जंक्शन पर विजिट करें और अपने फायदे की हर बात जानें।

ट्रक इंडस्टी से संबंधित नवीनतम अपडेट के लिए हमसे जुड़ें -

FaceBook - https://bit.ly/TruckFB
Instagram - https://bit.ly/TruckInsta
Youtube   - https://bit.ly/TruckYT

टाटा एस गोल्ड सीएनजी

अन्य समाचार

टूल फॉर हेल्प

Cancel

अपना सही ट्रक ढूंढें

नए ट्रक

ब्रांड्स

पुराना ट्रक