सीवी कंपनियों को वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में वृद्धि की उम्मीद

News Date 25 May 2022

सीवी कंपनियों को वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में वृद्धि की उम्मीद

लाइट और मीडियम ड्यूटी वाहनों की बिक्री में सुधार जारी रहने की संभावना

ऑटोमोबाइल्स क्षेत्र में वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री को लेकर निर्माता कंपनियां चालू वित्त वर्ष में बिक्री में मजबूत वृद्धि की आशा लेकर चल रही हैं। हालांकि आर्थिक गतिविधियों का बैरोमीटर अभी नीचे है क्योंकि मुद्रास्फीति की दर अपेक्षित गति से नहीं बढ़ी है। इसके बावजूद विश्व बैंक और आईएमएफ को चालू वित्त वर्ष में भारत के लिए अपने विकास के अनुमानों को संशोधित करने के लिए प्रेरित किया है। इस संबंध में वीई कमर्शियल व्हीकल्स के प्रबंध निदेशक विनोद अग्रवाल ने कहा कि जीएसटी संग्रह गत महीने में सबसे उच्च स्तर पर पहुंच गया था। यह कर संग्रहण अच्छा संकेत है, आने वाले समय में इससे आर्थिक गतिविधियां तेज होंगी और वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री मेें भी अच्छी बढ़त होने की संभावनाएं बन रही हैं। यहां आपको ट्रक जंक्शन की इस पोस्ट में कमर्शियल वाहनों की बिक्री की उम्मीदों को लेकर खास जानकारियां उपलब्ध कराई जा रही हैं। 

इस वित्त वर्ष में सीवी उद्योग का यह है अनुमान 

कमर्शियल वाहनों की बिक्री और इनकी मांग में किस तरह से सुधार होगा? इस संदर्भ में भारतीय वाणिज्यिक वाहन उद्योग का अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष में हल्के और मध्यम शुल्क वाले ट्रकों की मांग वित्त वर्ष 2022 में 343,000 इकाइयों से  लगभग एक चौथाई बढ़ जाएगी। इसे बढ़ावा देने के लिए प्रतिस्थापन की मांग और निर्माण गतिविधि में तेजी की उम्मीद है। यहां बता दें कि वित्त वर्ष 2019 में 557,000 यूनिटस् की पीक सेल्स से काफी कम होगी। वाणिज्यिक वाहनों की प्रतिस्थापन बिक्री पिछले तीन वर्षों में कम रही है क्योंकि उपभोक्ताओं ने आर्थिक अनिश्चितताओं और कोविड के बीच खरीददारी को टाल दिया है। 

लाइट और मीडियम ड्यूटी ट्रकों की मांग में सुधार है जारी

इधर सियाम के उपाध्यक्ष अग्रवाल का कहना है कि भारतीय ऑटोमोबाइल्स के वाणिज्यिक वाहन सेक्टर में पिछले साल जो लाइट और मीडियम ड्यूटी वाले वाहनों की बिक्री में सुधार हुआ वह अभी जारी रहने की संभावना है। हालांकि बसों और हैवी ड्यूटी वाले ट्रकों की मांग इनके मुकाबले कम रही। आंकड़ों पर गौर करें तो हैवी ड्यूटी ट्रकों की बिक्री 295,000 इकाइयों के शिखर के मुकाबले 164,000 इकाइयों की थी, वहीं बसों की बिक्री 2-3 साल पहले 64,000 इकाइयों के शिखर के मुकाबले केवल 17,500 इकाइयों की थी। 

इंफ्रास्ट्रक्चर एक्टिविटी में सुधार से सीवी की मांग बढ़ी

यहां बता दें कि टाटा मोटर्स के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर गिरीश वाघ ने कहा है कि इंफ्रास्ट्रैक्चर एक्टिविटी में सुधार से कमर्शियल व्हीकल की मांग में तेजी आई है,पहले के मुकाबले अब और ज्यादा हैवी व्हीकल्स की मांग बढ़ी है। इनका मानना है कि आर्थिक गतिविधियों में आई तेजी से कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री तेजी से आगे बढ़ेेगा। हालांकि इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ऊंचे दाम और व्हीकल लोन महंगा होने से इंडस्ट्री के रास्ते में कुछ अड़चनें आ सकती हैं। वित्त वर्ष 2018-19 में कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री ने बहुत अच्छा समय देखा था। उस समय बिक्री का आंकड़ा 10 लाख इकाई को पार कर गया था। अब पिछले वित्त वर्ष से रफ्तार बढऩे लगी है इससे पहले कोविड के असर के साथ कई बाधाएं सामने थीं। 

अशोक लेलैंड ने अप्रैल 2022 में की 11,847 इकाइयों की बिक्री 

यहां यह भी बता दें कि कमर्शियल वाहनों की बिक्री में बढ़ोतरी की संभावनाएं लगातार तेज होती दिख रहीं हैं क्योंकि देश की प्रमुख वाणिज्यिक वाहन निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड ने साल दर साल के आधार पर बीते माह अप्रैल 2022 में घरेलू और अंतराष्ट्रीय  बाजार में कुल 11,847 इकाइयों की बिक्री की। यह गत वर्ष के अप्रैल माह के मुकाबले 42 प्रतिशत अधिक रही। वहीं केवल घरेलू बाजार में 11,197 इकाइयों की बिक्री कर विशेष कामयाबी हासिल की। अशोक लेलैंड की इस शानदार बिक्री के पीछे जो सबसे बड़ा कारण माना जा रहा है वह है आर्थिक गतिविधियों में तेजी और ट्रांसपोर्ट सर्विस में सुधार। 

अशोक लेलैंड के ट्रकों की बिक्री वृद्धि के कई कारण 

अशोक लेलैंड ने अप्रैल 2022 में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अधिक इकाइयों की सेल दर्ज करवा कर वाणिज्यिक वाहन व्यापार में नेतृत्व का प्रभाव कायम रखा। कंपनी की इस उपलब्धि के कई कारण रहे हैं। इनमें पिछलेे महीने माल ढुलाई में सुधार और आर्थिक गतिविधियों में तेजी के साथ ही अतिरिक्त ट्रांसपोर्ट वाहनों के मालिकों के लिए स्थिर वित्त पोषण की स्थिति एवं बुनियादी ढांचे और निर्माण क्षेत्रों से स्थिर मांग ने भारी ट्रक मांगों का समर्थन किया।

एलसीवी बिक्री में 4 प्रतिशत की वृद्धि 

भारत की प्रमुख वाणिज्यिक वाहन निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड ने वित्त वर्ष 2022 में ना सिर्फ भारी वाहनों की बिक्री में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की बल्कि कुल घरेलू हल्के वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में भी 4 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज कराई। पिछले साल के अप्रैल माह के दौरान कंपनी ने एलसीवी की कुल 3,978 इकाइयां बेेचीं वहीं अप्रैल 2022 में यह बढ़ कर 4,124 इकाइयां रहीं। 

क्या आप नया ट्रक खरीदना, डीज़ल ट्रक, पेट्रोल ट्रक, इलेक्ट्रिक कमर्शियल वाहन या पुराना ट्रक बेचना चाहते हैं, किफायती मालाभाड़ा से फायदा उठाना चाहते हैं, ट्रक लोन, फाइनेंस, इंश्योरेंस, अपना ट्रक चुनें व अन्य सुविधाएं बस एक क्लिक पर चाहते हैं तो देश के सबसे तेजी से आगे बढ़ते डिजिटल प्लेटफार्म ट्रक जंक्शन पर विजिट करें और अपने फायदे की हर बात जानें।

ट्रक इंडस्टी से संबंधित नवीनतम अपडेट के लिए हमसे जुड़ें -

FaceBook - https://bit.ly/TruckFB
Instagram - https://bit.ly/TruckInsta
Youtube   - https://bit.ly/TruckYT

टाटा एस गोल्ड एचटी प्लस

अन्य समाचार

टूल फॉर हेल्प

Cancel

अपना सही ट्रक ढूंढें

नए ट्रक

ब्रांड्स

पुराना ट्रक