Saera ने ई- रिक्शा उत्पादन के लिए 350 करोड़ रुपये से ज्यादा का किया निवेश

News Date 21 Jun 2022

Saera ने ई- रिक्शा उत्पादन के लिए 350 करोड़ रुपये से ज्यादा का किया निवेश

Saera के बावल प्लांट में ई- रिक्शा और कार्ट का उत्पादन शुरू

देश में इलेक्ट्रिक वाहन के इस्तेमाल को लगातार बढ़ावा मिलने और इन वाहनों की बिक्री में इजाफा होने के चलते ईवी निर्माता कंपनियों में उत्पादन की होड़ सी मची है। एक के बाद एक ईवी निर्माता कंपनियां इलेक्ट्रिक सेगमेंट में भारी निवेश कर रही हैं। हाल ही सिएरा इलेक्ट्रिक ऑटो प्राइवेट लिमिटेड ने एक बयान में कहा है कि मयूरी ब्रांड के तहत पहली बार ई रिक्शा पेश करने वाली फर्म पांच एकड़ में फैले संयंत्र में ई रिक्श और ई कार्ट उत्पादन कर रही हैं। यहां उसने 350 करोड़ रुपये का निवेश किया है। यहां आपको ट्रक जंक्शन की इस पोस्ट में ई रिक्शा और ई कार्ट का उत्पादन करने वाली फर्म सिएरा इलेक्ट्रिक ऑटो प्राइवेट लिमिटेड (Saera Electric Auto Pvt Ltd) के प्लांट और इसकी योजना के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है।

Saera एक साल में 36,000 यूनिट ई-थ्री व्हीलर्स बनाएगा

आपको बता दें कि हरियाणा के बावल में जो हाल ही नया संयंत्र स्थापित किया है उसमें कंपनी ने ई- रिक्शा और ई-कार्ट का उत्पादन भी शुरू कर दिया है। सिएरा के प्रबंध निदेशक नितिन कपूर ने एक बयान में कहा है कि बावल में हमारा नया संयंत्र, राजस्थान के भिवाड़ी में हमारे मौजूदा संयंत्र के अलावा हमारी विनिर्माण क्षमता के विकास के विकास को और बढ़ाएगा। जिससे देश में हरित परिवहन की बढ़ती मांग को पूरा किया जा सकेगा। उन्होंने यह भी कहा है कि नये संयंत्र की एक साल में इलेक्ट्रिक थ्री व्हीलर उत्पादन की क्षमता 36,000 यूनिट है। वहीं दोपहिया वाहन उत्पादन की क्षमता 2 लाख  यूनिट के लगभग है। यह कंपनी योगो बाइक्स ब्रांड के तहत लोकप्रिय लो स्पीड ई स्कूटर भी बनाती है। कंपनी ने एलएमएल इलेक्ट्रिक के साथ बावल प्लांट में इलेक्ट्रिक टू व्हीलर्स बनाने के लिए पार्टनरशिप भी की थी।

जानें, सिएरा इलेक्ट्रिक ऑटो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के बारे में

यहां आपको बता दें कि Saera Electric Auto Pvt Ltd (SEAPL) कंपनी की शुरूआत इसके अध्यक्ष विजय कपूर ने 1973 में की थी। इसके बाद सन् 1981 में कंपनी ने हार्वेस्टर कंबाइन के ब्लेड का निर्माण शुरू किया  और हार्वेस्टर कंबाइन के अधिक घटकों के निर्माण के लिए जाने का विकल्प चुना। तब इस कंपनी ने ब्लेड, नाइफ गार्ड, ग्रेन टैंक, वर्म, शॉफ्ट, फीडर हाउसिंग, एडजस्टेबल सिस्ट, गेहूं और धान थ्रेसिंग की आपूर्ति शुरू की। इसके बाद कंपनी ने मैसर्स मारुति सुजुकी उद्योग लिमिटेड, महिंद्रा एंड महिंद्रा, मैसर्स कैरारो, मैसर्स न्यू हालेंड ट्रैक्टर्स जैसी कंपनियों के लिए कृषि उपकरण आदि का उत्पादन करना शुरू किया। इससे स्पेयर पार्ट्स में विविधिता आई। कंपनी का कहना है कि सायरा इलेक्ट्रिक ऑटो पेश करने वाली भारत की पहली कंपनी है। यह ई रिक्शा मुख्य रूप से ईंधन पर आयात को कम करके देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा और विदेशी मुद्रा बचत करने के लिए विकसित किए गए।

कंपनी की एनसीआर क्षेत्र में कई विनिर्माण इकाइयां

यहां बता दें कि सायरा इलेक्ट्रिक ऑटो कंपनी की एनसीआर में कई विनिर्माण इकाइयां हैं। इनमें सभी आधुनिक मशीनें, उपकरण और परीक्षण सुविधाएं इंटरनेशनल मानकों के अनुरूप हैं। कंपनी ने हाल ही हरियाणा के बावल में स्थित नये प्लांट में ई रिक्शा और ई कार्ट का उत्पादन शुरू कर दिया है वहीं राजस्थान के अलवर जिले के भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र में भी इसका कारखाना है।


क्या आप नया ट्रक खरीदना, डीज़ल ट्रक, पेट्रोल ट्रक, इलेक्ट्रिक कमर्शियल वाहन या पुराना ट्रक बेचना चाहते हैं, किफायती मालाभाड़ा से फायदा उठाना चाहते हैं, ट्रक लोन, फाइनेंस, इंश्योरेंस, अपना ट्रक चुनें व अन्य सुविधाएं बस एक क्लिक पर चाहते हैं तो देश के सबसे तेजी से आगे बढ़ते डिजिटल प्लेटफार्म ट्रक जंक्शन पर विजिट करें और अपने फायदे की हर बात जानें।

ट्रक इंडस्टी से संबंधित नवीनतम अपडेट के लिए हमसे जुड़ें -

FaceBook - https://bit.ly/TruckFB
Instagram - https://bit.ly/TruckInsta
Youtube   - https://bit.ly/TruckYT

टाटा एस गोल्ड डीजल प्लस

अन्य समाचार

टूल फॉर हेल्प

Cancel

अपना सही ट्रक ढूंढें

नए ट्रक

ब्रांड्स

पुराना ट्रक