Detect your location
Select Your location
Clear
  • Pune
  • Bangalore
  • Mumbai
  • Hyderabad
  • Chennai
Popular Cities
Pune
Bangalore
Mumbai
Hyderabad
Chennai
jaipur

टाटा बस

वर्तमान में हमारी वेबसाइट पर कुल 17 टाटा मोटर्स बस मॉडल लिस्टेड हैं। भारत में टाटा बस की कीमत 12.69 लाख रुपये से शुरू होती है और 2.2 करोड़ रुपये तक जाती है। स्टारबस स्कूल चेसिस टाटा बस मॉडल है, जो ज्यादातर भारतीयों के बजट में आता है। जबकि स्टारबस ईवी 4 12 लो एंट्री इलेक्ट्रिक बस सबसे महंगी है।

 

टाटा मोटर्स बस के कुछ पॉपुलर मॉडल स्टारबस ईवी 4 12 लो एंट्री इलेक्ट्रिक बस, टाटा स्टारबस स्कूल, टाटा सिटीराइड स्कूल और टाटा स्टारबस सिटी हैं। बस जंक्शन पर आप 3 कैटेगरी में टाटा बसें खरीद सकते हैं, जिनमें 4 रोडवेज, 4 इलेक्ट्रिक और 6 स्कूल बस शामिल हैं।

अधिक पढ़ें

क्रम सं. भारत में टाटा बस बस टाटा बस बस जीवीडब्ल्यू टाटा बस बस कीमत
1 स्टारबस ईवी 4 12 लो एंट्री इलेक्ट्रिक बस 19500 किलोग्राम

₹ 2.2 करोड़ से शुरू

2 स्टारबस स्कूल 9600 किलोग्राम

₹ 17.64 - ₹ 28.33 लाख

3 स्टारबस अल्ट्रा स्कूल -

₹ 28.38 - ₹ 29.83 लाख

4 सिटीराइड स्कूल 4950 किलोग्राम

₹ 20.65 - ₹ 26.41 लाख

5 स्टारबस स्कूल चेसिस 7300 किलोग्राम

₹ 12.69 - ₹ 21.18 लाख

6 स्टारबस स्टाफ कॉन्ट्रैक्ट -

₹ 21.42 - ₹ 28.65 लाख

7 स्टारबस अल्ट्रा स्टाफ कॉन्ट्रैक्ट 10200 किलोग्राम

₹ 28.62 - ₹ 30.67 लाख

8 स्टारबस स्टाफ कॉन्ट्रैक्ट चेसिस एलपी 16200 किलोग्राम

₹ 25.99 लाख से शुरू

9 स्टारबस सिटी 7300 किलोग्राम

₹ 22.13 - ₹ 28.18 लाख

10 स्टारबस अल्ट्रा सिटी इलेक्ट्रिक -

₹ 1.6 करोड़ से शुरू

डेटा अंतिम बार अपडेट किया : Feb 25, 2024

ब्रांड

बैठने की क्षमता

लोकप्रिय टाटा बस बस मॉडल

टाटा स्टारबस स्टाफ कॉन्ट्रैक्ट चेसिस एलपी

वैरिएंट्स नहीं मिले Plus Icon

कोई डेटा नहीं मिला

टाटा के समान ब्रांड्स

टाटा बस के बारे में

एक कमर्शियल व्हीकल ब्रांड के रूप में टाटा मोटर्स की स्थिति वैश्विक स्तर पर चुनौती रहित बनी हुई है। इसके अलावा, इलेक्ट्रिक बस: स्टारबस ईवी 4 12 लो एंट्री इलेक्ट्रिक बस के साथ मिली सफलता के साथ, टाटा बस ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए अपनी निष्ठा दिखाई है।

ब्रांड खुद को एक इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता के रूप में पेश करता है, जो भविष्य के लिए विनिर्माण में विश्वास करता है। यह यूनिक सेलिंग पॉइंट है, जो इसे भारतीय ऑटोमोबाइल मार्केट में सबसे अधिक बिकने वाले बस ब्रांडों में से एक बनाता है।

इसके अलावा, टाटा की सभी नई बसें प्रचलित टेक्नोलॉजी के साथ आती हैं। और जब टाटा बसों के माइलेज की बात आती है, तो इसे अपने मार्केट राइवल्स पर कॉम्पिटिटिव लाभ होता है। इसके अतिरिक्त, जब आप भारत में यात्रा करते हैं, तो टाटा बस शोरूम और सर्विस सेंटरों की कोई कमी नहीं होती है। 

टाटा बसें ट्रांसपोर्टेशन इंडस्ट्री में लीडिंग क्यों हैं?

टाटा बसों के ट्रांसपोर्टेशन इंडस्ट्री में लीडिंग होने का मुख्य कारण इसकी बसों का व्यापक पोर्टफोलियो है। इसमें सुरक्षा और विश्वसनीयता दोनों से समझौता किए बिना मॉडर्न एरा टेक्नोलॉजी शामिल है।

  • भारत में निर्मित एक संपूर्ण ट्रांसपोर्ट सॉल्यूशन
  • टाटा बस सर्विस सेंटर्स और शोरूमों की राष्ट्रव्यापी उपस्थिति
  • विश्व की चौथी सबसे बड़ी बस निर्माता
  • भारतीय सड़कों पर चुनौती रहित उपस्थिति

टाटा द्वारा प्रस्तावित बस कैटेगरी

बस जंक्शन के साथ आप अलग-अलग फ्यूल ऑप्शन में नए टाटा बस मॉडल प्राप्त कर सकते हैं। जैसे डीजल, सीएनजी और इलेक्ट्रिक बसें जिनमें विभिन्न गियर शिफ्ट पैटर्न होते हैं।

इसके अतिरिक्त, टाटा मोटर्स विभिन्न बस सेगमेंट के तहत बसें बनाती है। जैसे प्रीमियम कोच एंड बसें, मिनी बसें एंड स्कूल बसें, जो स्कूली बच्चों को ले जाती हैं। 

भारत में टाटा बसों का प्राइस रेंज

स्टारबस स्कूल चेसिस सबसे किफायती टाटा नई बस है, जिसकी प्राइस रेंज 12.69 लाख से शुरू होती है और 2.2 करोड़ तक जाती है। और जब टाटा बस चेसिस प्राइस लिस्ट की बात आती है, तो इसकी कीमत 24.88 लाख रुपये है।

लोकप्रिय टाटा बस मॉडल 2024

टाटा बस मॉडल का नाम एच पी (हॉर्स पावर) जीवीडब्ल्यू (ग्रॉस व्हीकल वेट) भारत में टाटा बस की कीमत
टाटा स्टारबस ईवी 4 12 लो एंट्री इलेक्ट्रिक 328 HP 19500 KG 2.2 करोड़ रुपये
टाटा स्टारबस अल्ट्रा स्कूल 121 HP 10200 KG 28.62 लाख रुपये
टाटा स्टारबस अल्ट्रा सब अर्बन 123 HP 8750 KG 36.13 लाख रुपये

 

टाटा मोटर्स का इतिहास

टाटा मोटर्स एक भारतीय ऑटोमोबाइल दिग्गज है, जो कमर्शियल और पैसेंजर टाटा बसों दोनों के निर्माण में समान रूप से शामिल है। टाटा ऑटोमोबाइल्स ने 1945 में एक लोकोमोटिव निर्माता के रूप में अपनी यात्रा शुरू की और 1954 में जर्मनी की डेमलर-बेंज के साथ कमर्शियल व्हीकल निर्माण में प्रवेश किया।

इस भारत-जर्मन साझेदारी ने जमशेदपुर में डेमलर लॉरी व्हीकल मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया। इसके बाद, 1991 में, फर्म ने एमयूवी (मल्टी-यूटिलिटी व्हीकल), टाटा सिएरा के साथ पैसेंजर ऑटोमोबाइल मार्केट में प्रवेश किया। लगभग दो दशक पहले, 2004 में, यह दक्षिण कोरियाई ट्रक निर्माता: देवू कमर्शियल व्हीकल्स कंपनी का मालिक बन गए।

1998 में, टाटा मोटर्स भारत की अपनी पहली कार, यानी टाटा इंडिका लेकर आई। और ठीक एक दशक बाद, यह उसी समय दुनिया की सबसे सस्ती कार टाटा नैनो भी पेश की गई। कुल मिलाकर, टाटा मोटर्स का एक लंबा इतिहास है, जो ब्रिटिश काल के भारत तक जाता है। और इसके ग्राहक-केंद्रित प्रयासों के कारण यह अभी भी भारतीय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

टाटा बसों का शून्य उत्सर्जन वाहन पोर्टफोलियो

* टाटा अल्ट्रा : 9/9एम इलेक्ट्रिक बसें

इलेक्ट्रिक बसों की टाटा अल्ट्रा रेंज खरीदारों और यात्रियों दोनों को प्रदूषण मुक्त ट्रांसपोर्ट सॉल्यूशन प्रदान करती है और यह यात्रा अनुभव पर शून्य समझौता भी सुनिश्चित करता है। इसके अलावा, यह इलेक्ट्रिक मॉडल अपनी जीवंत शैली के साथ विशाल इंटीरियर के साथ आती है। साथ ही, पूरी ड्राइव के दौरान गियर बदलने की कोई परेशानी नहीं होने से, ड्राइवर इन इलेक्ट्रिक बसों को बिना थकान के चला सकते हैं। इसके अलावा, खरीदारों के विविध बजट को पूरा करने के लिए, यह मॉडल एसी और नॉन -एसी दोनों वेरिएंट में आते है।
 
टाटा अर्बन : 9/12एम इलेक्ट्रिक बसें

टाटा अर्बन इलेक्ट्रिक बस पृथ्वी के अनुकूल बसें बनाने के लिए टाटा मोटर्स की प्रतिबद्धता का एक जीता-जागता सबूत है। इतना ही नहीं, यह इलेक्ट्रिक बस यात्रियों को एक ही समय में सेफ्टी और कम्फर्ट भी प्रदान करती है। इसके अलावा, इस इलेक्ट्रिक बस रेंज में सेफ्टी और सिक्योरिटी फीचर्स शामिल हैं, जो आईटीएस का उपयोग करते हैं। इन बसों की कुछ उल्लेखनीय विशेषताओं में पैसेंजर इंर्फोमेशन और टेलीमैटिक्स सिस्टम शामिल हैं। यह वही प्रणाली है, जो बेहतर वाहन रखरखाव और ट्रैकिंग सुनिश्चित करती है। और आखिरी लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि यह रेंज एसी और नॉन-एसी दोनों वेरिएंट में आती है।
 
स्टारबस ईवी : टाटा 4/12 मीटर लो फ्लोर और लो एंट्री इलेक्ट्रिक बसें

स्टारबस ईवी रेंज एक इलेक्ट्रिक ड्राइव और विशाल इंटीरियर के साथ आती है, जिसका उपयोग आप अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा, यात्री सुविधा बढ़ाने के लिए यूएसबी चार्जिंग पोर्ट भी दिए गए हैं। और आप जितनी चाहें उतनी यात्राएं करने के लिए 2 से 3 घंटे में इन्हें फुल चार्ज कर सकते हैं। साथ ही, इस मॉडल में रीजेनरेटिव ब्रेकिंग सिस्टम भी है, जो इसकी दक्षता को बढ़ाता है। अंत में, यह रेंज भी दो वेरिएंट में आती है यानी एसी और नॉन-एसी।

टाटा बसों के लिए बस जंक्शन क्यों चुनें?

जब खुद को उपलब्ध लेटेस्ट टाटा बस मॉडलों से अवगत कराने की बात आती है, तो चीजें कठिन हो जाती हैं। लेकिन बस जंक्शन ने अवसर देखकर इस समस्या का समाधान कर दिया है। जैसे, हम आपके लिए टाटा बसों के सभी नए मॉडलों की एक विशेष सूची लेकर आए हैं।

साथ ही, पैसेंजर सेफ्टी और कम्फर्ट दोनों पर ध्यान देने के साथ ये बसें सभी प्रकार के यात्रियों के बीच तेजी से स्वीकार्यता प्राप्त कर रही हैं। टाटा बस की इन सभी विशेषताओं के कारण, यह बस कंपनी भारत में टॉप बस मनुफैक्चरर्स में शुमार है।

इस पेज पर, आप अपनी पसंदीदा टाटा बस ब्राउज़ और चुन सकते हैं, जो आपके बजट और बिजनेस आवश्यकताओं को पूरा करती है। इसके अलावा, आप विभिन्न टाटा मोटर्स बसों के बीच तुलना करने के लिए हमारे टूल का भी उपयोग कर सकते हैं। जो या तो हॉर्सपावर या लोडिंग क्षमता से हो सकता है। तो, चाहे वह टाटा मोटर्स बस की कीमत हो, नए बस मॉडल के रिव्यू हो या उनकी तस्वीरें, हम यह सब कवर करते हैं।

भारत में टाटा बसों पर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

उत्तर. टाटा सिटीराइड स्कूल 20.65 लाख रुपये की शुरुआती कीमत के साथ सबसे प्रभावी टाटा मोटर्स बस है।
उत्तर. अलग-अलग इंटीरियर वाले 17 टाटा बस मॉडल हैं, जिन्हें आप बस जंक्शन पर खरीद सकते हैं।
उत्तर. स्टारबस ईवी 4 12 लो-एंट्री इलेक्ट्रिक टाटा बस का सबसे उचित मूल्य वाला मॉडल है, जिसकी एक्स-शोरूम कीमत 2.2 करोड़ है।
उत्तर. इसमें डीजल, सीएनजी और इलेक्ट्रिक तीन फ्यूल टाइप हैं, जो टाटा मोटर्स बस अपने बस वेरिएंट में पेश करती है।
उत्तर. टाटा स्टारबस अल्ट्रा सब अर्बन टाटा मोटर्स बस का सबसे लोकप्रिय बस मॉडल है।
उत्तर. टाटा मोटर्स जनवरी 2008 में टाटा नैनो, वैकल्पिक नाम: पीपल्स कार, लेकर आई।
उत्तर. टाटा मोटर्स के भारत में कुल 10 मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स हैं।
उत्तर. टाटा मोटर्स ने भारत में अपना परिचालन 1945 में शुरू किया था।
उत्तर. बस जंक्शन पर, 3 बस कैटेगरी हैं, जिसमें डीजल, इलेक्ट्रिक और सीएनजी शामिल है।
कैंसिल