Detect your location
Select Your location
Clear
  • Pune
  • Bangalore
  • Mumbai
  • Hyderabad
  • Chennai
Popular Cities
Pune
Bangalore
Mumbai
Hyderabad
Chennai
jaipur
Montra
By Saurjesh Kumar
05 Mar 2024
Automobile

दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे के लिए बढ़ी मुसीबत, टोल एजेंसी छोड़ रही ठेका

By Saurjesh Kumar News Date 05 Mar 2024

दिल्ली मुम्बई एक्सप्रेसवे के लिए बढ़ी मुसीबत, टोल एजेंसी छोड़ रही ठेका

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर कम आ रही गाड़ियां, बहुत कम हुआ टोल कलेक्शन

देश के सबसे बड़े और महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे के लिए मुसीबतें लगातार बढ़ रही है। भारतमाला परियोजना के तहत बनने वाला 1300 किलोमीटर से ज्यादा लंबा यह प्रोजेक्ट भारत के ट्रांसपोर्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए मील के पत्थर से कम नहीं है। लेकिन हाल ही में एक खबर इस परियोजना के महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली है। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे पर कुल 7 टोल प्लाज़ा का निर्माण किया गया है जो वाहन चालकों से टोल का कलेक्शन कर रहे हैं। लेकिन इस एक्सप्रेसवे पर उम्मीद के मुताबिक ट्रैफिक अभी भी नहीं आ रहा है जो भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग परिवहन के लिए परेशानी बढ़ा रहे हैं। साथ ही जो टोल एजेंसी है वह भी ठेका छोड़ रही है। उम्मीद के मुताबिक ट्रैफिक न मिलने की वजह से टोल एजेंसी को अच्छा मुनाफा नहीं हो पा रहा है जो उनके लिए चिंता का विषय है। बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली को मुंबई से जोड़ने वाला इस 1300 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेसवे का निर्माण अंतिम चरण में चल रहा है लेकिन इस एक्सप्रेसवे से होते हुए वर्तमान में सिर्फ 3000 से 4000 वाहन ही निकल रहे हैं। अनुमान यह था कि इस एक्सप्रेसवे से 50 हजार से 60 हजार वाहन रोजाना गुजरेंगे। इसका परिणाम यह हुआ कि टोल एजेंसी ने एक महीने में ही अपना ठेका छोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक दूसरी एजेंसियों को यह ठेका सिर्फ एक तिहाई कीमत में दिया गया है।  

क्यों नहीं आ रहे वाहन?

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे मध्यप्रदेश से होकर भी गुजरता है। जिसमें यह मार्ग मुख्यतः झाबुआ, रतलाम और मंदसौर से होकर गुजरता है। इस एक्सप्रेसवे पर फर्राटा मारती गाड़ियां तो देखी जा रही है लेकिन उम्मीद के मुताबिक ट्रैफिक नहीं मिल पा रहा है। इसका कारण एक तो महंगा टोल है, वहीं एक अन्य कारण यह है कि मध्यप्रदेश से सटे राजस्थान और महाराष्ट्र में इस एक्सप्रेसवे का काम अभी प्रगति पर है, निर्माण पूरा न होने की वजह से यहां से गाड़ियां नहीं आ पा रही है। दूसरे राज्यों से गाड़ियों का ना आना भी इस एक्सप्रेसवे पर ट्रैफिक कम होने का एक बड़ा कारण माना जा रहा है। वहीं टोल की बात करें तो वर्तमान में 3 से 4 हजार गाड़ियां इस एक्सप्रेसवे से होकर गुजर रही है, जिससे सिर्फ 9 लाख रुपये का टोल इकट्ठा हो पा रहा है। 

भविष्य में अच्छे टोल कलेक्शन की है पूरी संभावना 

दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे मध्यप्रदेश, राजस्थान, और महाराष्ट्र से होकर गुजरता है और इसकी शुरुआत हरियाणा के सोहना से होती है। अभी भी इनमें से कई इलाकों में निर्माण लंबित है या प्रगति पर है। एक्सप्रेसवे का निर्माण पूरी तरह अप्रैल 2024 तक होने  का अनुमान है। यह एक्सप्रेसवे राजस्थान के जयपुर, अजमेर, कोटा, किशनगढ़, उदयपुर, चित्तौड़गढ़, सवाई माधोपुर से गुजरता है। वहीं यह मध्यप्रदेश के भोपाल, उज्जैन, इंदौर आदि शहरों को जोड़ते हुए व्यापक कानेक्टिविटी प्रदान करता है। जब यह निर्माण पूरा हो जाएगा तो भविष्य में इस एक्सप्रेसवे से होते हुए अच्छा ट्रैफिक और ज्यादा टोल का कलेक्शन का अनुमान लगाया जा रहा है। वर्तमान में दिल्ली से सूरत की दूरी 1150 किलोमीटर है। वहीं इस एक्सप्रेसवे के निर्माण से यह दूरी 350 किलोमीटर कम होकर मात्र 800 किलोमीटर रह जाएगी। जबकि ट्रेन से भी दिल्ली से सूरत की दूरी 1121 किलोमीटर है। 

इन शहरों की दूरी होगी कम 

इस एक्सप्रेसवे के निर्माण के बाद दिल्ली से सूरत की दूरी 350 किलोमीटर कम हो जाएगी वहीं इसके अलावा नोएडा से जयपुर और दिल्ली से जयपुर की दूरी भी कम हो जाएगी। इस एक्सप्रेसवे को डीएनडी फ्लाई वे से भी जोड़ा जाएगा। 

ट्रक इंडस्टी से संबंधित नवीनतम अपडेट के लिए हमसे जुड़ें -

Facebook - https://bit.ly/TruckFB

Instagram - https://bit.ly/TruckInsta

YouTube   - https://bit.ly/TruckYT 

अन्य समाचार

टूल फॉर हेल्प

Call Back Button Call Us