सब्जी मंडी में लगाएं अपना ट्रक, रोजाना करें मोटी कमाई

News Date 30 Jul 2021

सब्जी मंडी में लगाएं अपना ट्रक, रोजाना करें मोटी कमाई

जानें, देश की प्रमुख मंडियों में ट्रक लगाने की प्रक्रिया

ट्रक व्यवसायियों के लिए सब्जी मंडी ऐसा सदाबहार कमाई का बेहतर स्थान है जहां रोजाना मोटी कमाई हो सकती है। सब्जियां एक शहर की मंडी से दूसरे बड़े शहरो की मंडियों तक विक्रय के लिए पहुंचाई जाती हैं। आजकल ऑनलाइन से व्यापारी पहले ही बात कर लेते हैं। बस माल की समय रहते सप्लाई करना सबसे बडी प्राथमिकता होती है। सब्जी मंडी में कारोबार की बात की जाए तो हर दिन लंबी दूरी तक सब्जियां पहुंचाने के लिए ट्रकों की  जरूरत पड़ती रहती है। पहले मंडी में काश्तकार आसपास या दूरस्थ स्थानों से सब्जियां बेचने आते हैं। इनकी भूमिका सब्जियों की बोली लगने के बाद समाप्त हो जाती है। इसके बाद बारी आती है सब्जी मंडी से फल और सब्जियों की सप्लाई दूरस्थ मंडियों में करने की।  अगर, आपके पास अपना ट्रक है और और आप इसे सब्जीमंडी में लगवाना चाहते हैं तो आपको कुछ मूलभूत जानकारी होनी चाहिए जैसे कि आपके पास कौनसा ट्रक है और इसकी भार वहन करने की क्षमता कितनी है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आपको सब्जी मंडी से लोड लेने की योजना बनानी होगी।

सब्जी मंडी ट्रांसपोर्ट यूनियनों से साधें रखें संपर्क 

देश की महत्वपूर्ण सब्जी मंडियों में सब्जी और फलों की लगातार आवक बनी रहती है। इनको यहां से अन्यत्र बेचान के लिए भेजा जाता है।  इसके लिए आपको ट्रांसपोर्टर से संपर्क बढाने के साथ ही सब्जी मंडी ट्रांसपोर्ट यूनियन पदाधिकारियों से जान-पहचान रखनी होगी। कई बार सब्जी मंडियों में किसी एक किस्म के फल या सब्जियों की सप्लाई करने का काम इतना व्यापक स्तर पर होता है कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते। इनमें सीजन की सब्जियों के अलावा फलों का लोड भी लगभग हर घंटे निकलता रहता है।  आम तौर पर सब्जी मंडियों में टाटा ऐस  ( Tata Ace) से लेकर 10 टायर वाले ट्रकों की जरूरत होती है। टाटा ऐस के अलावा टाटा- 407, ( Tata 407 ) विक्रम, बोलेरा आदि वाहनों की भार क्षमता के अनुकूल ही इन्हे लोड दिया जाता है।  


सब्जी मंडी में ट्रक लगवाने के लिए क्या जरूरी है 

सब्जी मंडी में ट्रक लगवाने के लिए जब आप यूनियन कार्यालय जाएं तो वहां अपनी गाडी की आरसी, संबंधित गाडी के ड्राइवर का पूरा नाम पता दर्ज कराना जरूरी है। इसके अलावा आधार कार्ड आदि कागजात होना आवश्यक है। इसमें यह भी तय करना होता है कि आपको  कौनसे रूट पर जाना सही रहेगा। रूट पर खास ध्यान रखें ताकि आपको परिवहन में आने वाली परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। 


दिल्ली में आजादपुर और गाजीपुर बड़ी मंडिया 

देश की बड़ी सब्जी मंडियों में दिल्ली की आजादपुर और गाजीपुर की मंडियां मुख्य हैं। इसके अलावा मुंबई, कोलकाता, पंजाब, हरियाणा, गुडगांव, रतलाम, महाराष्ट्र आदि जगहों पर भी विशाल सब्जीमंडियां हैं। इनमें संबंधित जिलों के ट्रक संचालक अपने ट्रक भाड़े पर लगवा सकते हैं। इन सभी मंडियों में लोड प्राप्त करने के लिए आपको यहां की ट्रांसपोर्ट यूनियनों से संपर्क साधना होगा। 

ट्रक ड्राइवर रखें इन बातों का ध्यान 

आप अपना ट्रक सब्जी मंडी में लगवा रहे हैं, लेकिन जब आप माल भर कर दिल्ली अथवा बड़े शहरों की मंडियों में जाते हैं तो सबसे पहले अपने ट्रक की आरसी और ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड एवं अन्य जरूरी कागजात संभाल कर रखें। रास्ते में सुनसान जगहों पर ट्रक नहीं रोकें। इसके अलावा मार्ग में कहीं यदि आरटीओ विभाग की ओर से चेकिंग करने पर जुर्माना आदि की रसीद काटी जाती है तो यह रकम टर्म एंड कंडीशन के तहत संबंधित उस व्यापारी को ही चुकानी  होगी जिसने आपको माल पहुंचाने के लिए भेजा है। इसके अलावा मंडी से वापस जाने तक की जो रसीद आरटीओ द्वारा काटी जाती है वह निश्चित समय के लिए 2000 रूपये की होती है। इसके बाद यदि आप निर्धारित समय के बाद निकलते हैं तो वापस 1750 रुपये की रसीद कटवानी होगी।  नियमों से पूरी तरह से जानकार ट्रक ड्राइवर मंडी से रात्रि बारह बजे सुबह चार बजे के मध्य ही निकलते हैं। 

 

क्या आप नया ट्रक खरीदना या पुराना ट्रक बेचना चाहते हैं, किफायती मालाभाड़ा से फायदा उठाना चाहते हैं, ट्रक पर लोन, फाइनेंस, इंश्योरेंस व अन्य सुविधाएं बस एक क्लिक पर चाहते हैं तो देश के सबसे तेजी से आगे बढ़ते डिजिटल प्लेटफार्म ट्रक जंक्शन पर लॉगिन करें और अपने फायदे की हर बात जानें।

Follow us for Latest Truck Industry Updates-
FaceBook  - https://bit.ly/TJFacebok
Instagram - https://bit.ly/TruckInsta
Youtube     -  https://bit.ly/TruckYT

समान न्यूज

टूल फॉर हेल्प

Cancel

अपना सही ट्रक ढूंढें

नए ट्रक

ब्रांड्स

पुराना ट्रक